Loading...

Robot देगा वित्तीय सलाह तो Block chain टेक्नोल़ॉजी से सभी बैंकों को मिल जाएगी किसी भी बैंक में होने वाले ट्रांजेक्शन की जानकारी

बैकिंग सिस्टम आने वाले दिनों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ब्लॉक चेन व इंटरनेट ऑफ थींग्स पर होगी निर्भर

Money Bhaskar Sep 12, 2018, 20:39 IST

 नई दिल्ली।बैंकिंग सिस्टम की सूरत बदलने जा रही है। यह काम फाइनेंसियल टेक्नोलॉजी (फिनटेक) करेगा। इससे बैंकिंग व्यवस्था हाईटेक हो जाएगी। फिनटेक के तहत Robot आपको वित्तीय सलाह देगा। ब्लाक चेन (block chain) टेक्नोलॉजी से आपके ट्रांजेक्शन की जानकारी हर बैंक को होगी। ई-एग्रीगेटर के जरिए आपको एक ही जगह पर सभी बैंकों की तरफ मुहैया कराई जाने वाली सभी सेवाओं की जानकारी मिल जाएगी। वित्त मंत्रालाय का मानना है कि फिन टेक को अगर बैंकिंग सिस्टम में नहीं अपनाया गया तो सरकारी बैंक बैंकिंग की दौड़ में पीछे रह जाएंगे। आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक एप्पल, गुगल व फेसबुक जैसी वैश्विक टेक्नोलॉजी कंपनियां पूरी वित्तीय चेन में नई-नई चीजें ला रही हैं। ऐसे में, ये कंपनियां अपनी टेक्नोलाजी के माध्यम से वित्तीय संस्थान की भूमिका खत्म कर सकती है।

 

फिनटेक को रेगुलेट करने के लिए बन रहे हैं नियम

 

वित्त मंत्रालय फिन टेक को रेगुलेट करने के लिए नियम बना रहा है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2013-14 के बीच फिनटेक इंडस्ट्री में 282 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और 2015 तक फिनटेक का कारोबार 45 करोड़ डॉलर का हो गया। फिलहाल भारत में 400 फिनटेक कंपनियां काम कर रही हैं। वर्ष 2020 तक इनके कारोबार में 170 फीसदी की बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया है। नैसकॉम के अनुमान के मुताबिक भारत का फिनटेक साफ्टवेयर मार्केट वर्ष 2020 तक  2.4 अरब डॉलर का हो जाएगा।

 

फिनटेक के तहत तीन चीजें

 

आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक बैंकिंग सिस्टम में फिनटेक के तहत मुख्य रूप से तीन चीजें इस्तेमाल होंगी। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), ब्लॉक चेन व इंटरनेट ऑफ थींग्स। एआई के तहत आने वाले समय में बैंकों में ग्राहक सेवा व उनकी मदद के लिए रोबोटिक सहायक होंगे। रोबोटिक सहायक का इस्तेमाल मुख्य रूप  से बैंकों के बड़ी शाखाओं में किया जाएगा जहां काफी अधिक संख्या में ग्राहक आते हैं। ये रोबोटिक सहायक ग्राहकों को बैंकिंग ट्रांजेक्शन में उनकी मदद करेंगे। वित्त मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक आने वाले समय में बैंकिंग में सिर्फ सेविंग या सर्विस ट्रांजेक्शन का ही काम नहीं होगा। बैंक का काम ग्राहकों की हर प्रकार से तसल्ली के साथ ग्राहकों के धन को बढ़ाने में सहयोग देना भी होगा।


Loading...

RECOMMENDED


Loading...